Home Biography रतन टाटा जीवनी | Ratan Tata biography in Hindi

रतन टाटा जीवनी | Ratan Tata biography in Hindi

30
0

onlinesikho.in आपकी प्रतियोगी परीक्षा और सामान्य ज्ञान में वृद्धि करने के लिए आपको रतन टाटा की जीवनी | Ratan Tata biography in Hindi |  Ratan Tata Net Worth, age, Family, Height, Wife, Sister की मुफ्त जानकारी प्रदान करता है।

इस लेख में आप Ratan Tata की कुल संपत्ति, परिवार, स्कूल, विश्वविद्यालय, जन्म तारीख, जन्मस्थान, आयु, शारीरिक संरचना, वजन, लम्बाई वास्तविक नाम, उपनाम, वैवाहिक स्थिति आदि की जानकारी दी गयी है।

Ratan Tata

रतन टाटा की जीवनी

  • नाम -रतन नवल टाटा
  • उपनाम -आर. एन. टी.
  • जन्म- 28 दिसम्बर 1937
  • जन्म स्थान – सूरत, गुजरात, भारत
  • पिता -नवल टाटा
  • माता – सोनू टाटा
  • सौतली माँ -सिमोन टाटा
  • चाचा -जे आर डी टाटा
  • भाई -नोएल टाटा
  • उम्र-83 साल
  • वजन -85 कि० ग्रा०
  • ऊंचाई -फीट इन्च- 5’ 10”
  • निवास -कुलाबा मुंबई, भारत
  • धर्म -पारसी
  • स्कूल- कैंपियन स्कूल, मुंबई और कैथेड्रल और जॉन कॉनन स्कूल, मुंबई
  • कॉलेज- कॉर्नेल विश्वविद्यालय, इथाका, न्यूयॉर्क और हार्वर्ड बिजनेस स्कूल, बोस्टन, मैसाचुसेट्स
  • पेशा -बिजनेसमैन और निवेशक
  • अवार्ड -पद्म भूषण
  • राष्ट्रीयता- भारतीय

जन्म-

मिस्टर रतन टाटा का जन्म सूरत में 28 दिसंबर 1937 के दिन हुआ था। वह नवल टाटा के पुत्र हैं उन्हें नवजबाई टाटा ने अपने पति की मृत्यु के पश्यात गोद लिया था जब रतन टाटा सिर्फ और सिर्फ दस साल की उम्र के थे ,तब ही उनके माँ और पापा एक दूसरे से अलग हो चुके थे। इसके पश्यात उनका पालन पोषण दादी नवजबाई टाटा ने की थी। रतन टाटा धर्म की बात करे तो वह पारसी धर्म से बिलॉन्ग करते है।

शिक्षा-

रतन टाटा की शुरुआती पढाई कैंपियन स्कूल मुंबई से और कैथेड्रल एंड जॉन कॉनन स्कूल से उन्होंने माध्यमिक शिक्षा प्राप्त की हुई है। इसके पश्यात रतन टाटा ने कॉर्नेल विश्वविद्यालय से बी एस वास्तुकला में स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग की हुई है और 1975 की साल में हार्वर्ड बिजनेस स्कूल से एडवांस्ड मैनेजमेंट की डिग्री प्राप्त की हुई है।

परिवार-

रतन टाटा की माता का नाम सोनू टाटा और पिता जी का नाम नवल टाटा है रतन सिर्फ 10 साल की उम्र के और उनके भाई सात साल के थे तब ही उनके माता पिता अलग हो चुके थे, इन्ही कारन उनकी परवरिश उनकी दादी नवजबाई टाटा ने की हुई है। रतन टाटा ने शादी नहीं की हुई है।

करियर –

उनके शुरुआती करियर और मुख्य करियर की बात करे तो 1961 की साल में की हुई है। शुरूआती सफर में उन्हों ने युवा होते ही शॉप फ्लोर जैसे छोटे काम किये हुए है। थोड़े वक्त ऐसी सर्विस देने के पश्यात रतन जी टाटा ग्रुप और उसके समूह से जॉइन्ट हुए थे। वर्ष 1971 में रतन टाटा रेडियो और इलेक्ट्रॉनिक की नेल्को कंपनी के डायरेक्टर पद पर विराजमान हुए थे। वर्ष 1981 में रतन को टाटा ग्रुप के अध्यक्ष नियुक्त किये गए थे यह पदवी उन्हें जमशेदजी टाटा ने दी हुई थी।

उनकी छाँव में चलते हुए टाटा इंड्रस्ट्री ने बहुत बड़ा मुकाम हासिल किया था 1998 की साल में फ़ास्ट समय रतन टाटा के अध्यक्ष पद के निचे टाटा मोटर्स ने एक न्यू भारतीय कार टाटा इंडिका का लॉचिंग किया और उसको बाजार में उतारा था। इसी मनमोहक और अच्छे मॉडल के जन्मदाता की परहेज में टाटा समूह की पहचान पूरी दुनिया भर में धीरे धीरे बढ़ती जी गयी और एक नए मुकाम को हासिल कर लिया है।

अपमान –

रतन टाटा को कुछ साल पहले जब उनकी टाटा मोटर्स डूबती हुई दिखाई थी तब उन्हें बेचने के लिए फोर्ड कंपनी के पास अपना बेचने का प्रस्ताव रखा था उस वक्त उन्होंने कहा था की टाटा मोटर्स को खरीद कर हम आपके ऊपर एक एहसान कर रहे है। इसी कारन उन्होंने अपनी कंपनी को नहीं बेचा था। और यह प्रस्ताव उन्होंने रद्ध कर दिया था बाद में उन्होंने सिर्फ दस वर्ष के बाद 26 मार्च 2008 के दिन ही रतन टाटा ने अपमान का बदला ले लिया था । इन्होने लैंड रोवर और जैगुआर जैसी कार खरीद कर फोर्ड कंपनी को जवाब दे दिया था।

टाटा नेनो –

इस महान उद्योगपति ने अपने करियर में बहुत सफल होने के पश्यात एक छोटी कार टाटा नैनो को 10 जनवरी 2008 के दिन बाजार में उतरा था जिसकी बनावट भारत में हुई थी यह कर भारत देश के पुरे इतिहास की सबसे सस्ती कार कही जाती है। उसको सिर्फ और सिर्फ काम बजट वाले इंसानो के लिए ही बनाई गयी थी क्योकि उसकी कीमत ही कुछ इस तरह राखी गयी थी।

कोई भी सामान्य इन्सान भी इस कार को खरीद सकता है। उसके कुछ वक्त के बाद ही इस महान उध्योग पति रतन टाटा 75 की साल में वर्ष 2012 में टाटा ग्रुप के सभी मुख्य पदों से अपनी सेवा मुक्त की घोषणा करते हुए पद को छोड़ दिया और सिर्फ चेरीटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष को ही देखने की जिम्मेदारी अपने सर रखी हुई है।

अवार्ड –

महान उद्योग पति रतन जी को भारत सरकार ने वर्ष 2000 की साल में पद्म भूषण अवार्ड से सन्मानित किये थे इसके पश्यात वर्ष 2008 की साल में फिर से उन्हें पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था यह सन्मान भारत देश का सबसे दूसरा और तीसरा नागरिक सम्मान कहा जाता है इसके अलावा भी रतन टाटा को एवार्ड प्राप्त हुए है। उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी सामाजिक कार्य में समर्पित करदी है।

उनके दान की बात करे तो उन्होंने कई वक्त सामाजिक कार्यो में अपना राशि दान किया हुआ है। जैसे की वर्तमान समय में चल रहे महामारी कोरोना में बहुत ही बड़ा दान किया था।

Ratan Tata Net Worth

Previous articleअनिल अंबानी जीवनी | Anil Ambani biography in Hindi
Next articleमलाइका अरोड़ा जीवनी | Malaika Arora biography in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here